0

CTET /TET - Bal Vikas Aur Adhyapan Kala (Varg: I-VIII Hetu) (Hindi) Paperback – 20 March 2019


  • Author: Ragini Kavindra
  • Published By: MHE
  • Language: Hindi
  • ISBN: 978935316589
  • Cover Type: Paperback
  • Availability: Out Of Stock
  • Delivery Charges:    FREE
  • Free delivery above ₹499
  • ₹169.00

  • MRP ₹260.00
  • 35% off

Partner Offers: Get coupons on every prepaid order
1MG
Get 20% Off + 20% cashback on medicines
Expires: T&C
Flat Rs 150 off on Hindustan Times subscription
Expires: T&C
Flat 20% Off on All Medicine Orders
Expires: T&C
75% off on Online Doctor Consultation on MediBuddy
Expires: T&C
Flat 7% off upto ₹1000 on Flight Bookings on ixigo
Expires: T&C
Extra Flat 15% off on purchase on Bewakoof.com
Expires: T&C
Flat 50% off for New users on Rapido
Expires: T&C
Flat 10% off on InterCity SmartBus Booking
Expires: T&C
सीटेट के अद्यतन सिलेबस के आधार पर परिवर्द्धित एवं संशोधित बाल विकास और अध्यापन कला नामक इस पुस्तक के द्वितीय संस्करण में उन सभी तथ्यों को समाहित किया गया है,जो बालकों के विकास के साथ-साथ समावेशी शिक्षा की अवधारणा तथा विशेष आवश्यकता वाले बालकों को समझना और उनके अधिगम एवं अध्यापन की स्थितियों से संदर्भित हों। इस पुस्तक की रचना करते समय इनमें निहित अध्यायों को क्रमबद्ध करते समय मनोविज्ञान की विविध पुस्तकों का अध्ययन कर तथा उसके तथ्यों को सीटेट के पूर्व वर्षों की परीक्षाओं में पूछे गए प्रश्नों के अनुरुप व्यवस्थित अत्यंत सहज तरीके से प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है, ताकि अभ्यर्थियों को इसका एहसास हो जाये कि उन्हें इसके लिए कहाँ तक पढ़ना है। इसके प्रत्येक अध्याय में विषयगत तथ्यों के विश्लेषणात्मक विवेचन के साथ -साथ पूर्व वर्षों के पूछे गए प्रश्न (सीटेट एवं टेट; 2011 से दिसंबर 2018 तक की परीक्षाएं शामिल ) समाहित किये गए हैं। याद रहे कि इस पुस्तक में निहित विषयगत शिक्षण शास्त्र के मुख्य पहलुओं को स्पष्ट रूप से व करने हेतु हमारे लेखकों ने सीबीएससी(जो देश में सीटेट की परीक्षा का संचालन करती है ) एवं एनसीईआरटी के विषय विशेषज्ञों तथा प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों को प्रशिक्षण देने वाले प्रशिक्षण शालाओं के प्रशिक्षकों से अध्यापन कला/ शिक्षण शास्त्र पर विशेष रूप से राय लेकर उसे अपने शब्दों में समझाने का इस रूप से प्रयास किया है,ताकि अभ्यर्थी इस विषयवस्तु को अच्छी तरह समझ कर इसके अंतर्गत पूछे जाने वाले प्रश्नों का सटीक उत्तर बड़ी आसानी से दे सकें।
Ragini Kavindra:--

Write a review

Note: HTML is not translated!

Related Products